We use cookies and other technologies on this website to enhance your user experience.
By clicking any link on this page you are giving your consent to our Privacy Policy and Cookies Policy.
Karan Samaj Maha Sabha icon

Karan Samaj Maha Sabha

1.0 for Android

The description of Karan Samaj Maha Sabha

करण (कर्ण) जाति का इतिहास
इस जाति की उत्पत्ति का सम्बन्ध ऋषि कण्व से है | महर्षि कण्व के पुत्र सत्य श्रवा, सत्य श्रवा से ऊरुश्रवा , ऊरुश्रवा से देवदत्त की उत्पत्ति है | जिसका उल्लेख ऋग्वेद के मंडल प्रथम सूत्र 9,3654 और 108 में है | देवदत्त की पत्नी कान्ति थी | देवदत्त ने चंद्रग्रहण के समय प्रयाग संगम में स्नान किया और पुत्र की लालसा से भगवान श्री हरी की आराधना की एवं कौशाम्बी में सौ वर्ष तक तपस्या की | जिसके प्रभाव से कांती के गर्भ से कण्व का जन्म हुआ, जी भविष्य में महर्षि करण्य के नाम से प्रसिद्ध हुए | बालक कर्ण का जन्म अहमदाबाद में राजगृह नगर के समीप कारुष्य नमक ग्राम में हुआ था, जिसे कैंडल भी कहते हैं | इनका गोत्र शैनक था | इस जाती की उत्पत्ति का सम्बन्ध ऋषि कर्ण से है | महर्षि कर्ण के पुत्र सत्य श्रवा, सत्य श्रवा से ऊरुश्रवा , ऊरुश्रवा से देवदत्त की उत्पत्ति है | जिसका उल्लेख ऋग्वेद के मंडल प्रथम सूत्र 9,3654 और 108 में है | देवदत्त की पत्नी कान्ति थी | देवदत्त ने चंद्रग्रहण के समय प्रयाग संगम में स्नान किया और पुत्र की लालसा से भगवान श्री हरी की आराधना की एवं कौशाम्बी में सौ वर्ष तक तपस्या की | जिसके प्रभाव से कांती के गर्भ से कण्व का जन्म हुआ, जी भविष्य में महर्षि कर्ण के नाम से प्रसिद्ध हुए | बालक कण्व का जन्म अहमदाबाद में राजगृह नगर के समीप कारुष्य नामक ग्राम में हुआ था, जिसे कैंडल भी कहते हैं | इनका गोत्र शैनक था |
महाराजा कर्ण ने चक्रवर्ती राज्य स्थापित किया इनकी राजधानी उज्जैन थी | एक बार महाराजा करण्य अग्ङिरा ऋषि के पास गए और जमीन पर बैठ कर उनकी भक्ति करने लगे | ऋषि अग्ङिरा ने चिंता समझकर प्रश्न पूछने पर महाराज करण्यने संतान प्राप्ति की अभिलाषा की | तब अग्ङिरा ऋषि ने चंद्रगुडा को यज्ञ प्रसाद देकर आशीर्वाद दिया | कि राजन तुम्ह्जारी पत्नी चंद्रगुडा के गर्भ से एक ऐसा पुत्र होगा | जिसके नाम से राजवंश चलेगा |  समयानुसार चन्द्रगुणा के गर्भ से जो बालक उत्पन्न हुआ | (देखे गीता परेश गोरखपुर के भागवत पुराण विशेषांक पृष्ठ 600 पर) उसका नाम कर्ण के नाम से कर्ण जाति (वंश) चल रहा है | जो समयानुसार अपभ्रंश होकर कर्णरे, कडेरे, करण, कर्णावत, कर्णराजपूत, आदि कहलाने लगे | "अखिल भारतीय स्तर पर एकीकृत करने हेतु एक नाम से संगठन बनाया गया | जिसका नाम अखिल भारतीय करण समाज महासभा रजि. नं. एस./ 718" है |जो सभी जाति बंधुओ के लिए विशेष हितकारी है |

महर्षि कणर्व का आश्रम वर्तमान में पता चला कि
पता:- चंद्रकिरण पीठ महर्षि कण्व आश्रम, कनाडा, जलगांव महाराष्ट्र (भारत)
पिन कोड:- 425120
फोन नं. 0297-2467230, 0297-2467253

महंत पु.श्री अवधेशानंद जी महाराज
मो. नं. 07507567296
Show More

Karan Samaj Maha Sabha Tags

Add Tags

By adding tag words that describe for Games&Apps, you're helping to make these Games and Apps be more discoverable by other APKPure users.

Additional Information

Advertisement
Comment Loading...
Ooops! No such content!
Popular Apps In Last 24 Hours
Download
APKPure App